कोलकाता से ताज़ा अपडेट, पुलिस की ओर से हुई गिरफ्तारी, ममता बनर्जी...

कोलकाता से ताज़ा अपडेट, पुलिस की ओर से हुई गिरफ्तारी, ममता बनर्जी पहुंची कमिश्नर ऑफिस।

12
0
SHARE

शारदा चिटफंड घोटाले की गायब फाइलें जब्त करने कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार के घर पहुंची सीबीआई टीम व स्थानीय पुलिस के बीच रविवार शाम टकराव हो गया।

शारदा चिटफंड घोटाले की गायब फाइलें जब्त करने कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार के घर पहुंची सीबीआई टीम व स्थानीय पुलिस के बीच रविवार शाम टकराव हो गया।

दोनों के अफसरों के बीच नौबत धक्का–मुक्की व हाथापाई तक पहुंच गई। पुलिस ने सीबीआई के ड्राइवर और पांच सीबीआई अफसरों को गिरफ्तार कर लिया। दो जांच एजेंसियों के बीच ऐतिहासिक तकरार के बीच प. बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी मौके पर पहुंच गई।

इस घटनाक्रम के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी केंद्र सरकार पर बरसीं। उन्‍होंने कहा कि हमारा धैर्य जवाब दे रहा है। देश नरेंद्र मोदी से परेशान हो चुका है। केंद्र सीबीआइ पर दबाव डाल रही है।

सीबीआइ एनएसए अजित डोभाल के इशारे पर काम कर रही है। भाजपा चोर पार्टी है, हम नहीं। देश में इमरजेंसी से भी बुरे हालात हैं। मेरी रैली के बाद मोदी पीछे पड़ गए हैं।

पीएम मोदी और अमित शाह बदले की राजनीति कर रहे हैं। भाजपा की इक्‍सपायरी डेट करीब आ रही है। इस बवाल के बाद देर शाम पुलिस सीबीआई के ज्वाइंट डायरेक्टर पंकज श्रीवास्तव के घर पहुंच गई।

संभवत: उन्हें भी गिरफ्तार किया जाएगा। जिन सीबीआई अफसरों को गिरफ्तार किया गया है, वे पुलिस आयुक्त कुमार के घर छापा मारने गई टीम के अगुआ थे।

पुलिस आयुक्त कुमार के बचाव में ममता बनर्जी खुद मैदान में उतर गई हैं। वह न केवल मौके पर पहुंची बल्कि उन्होंने आला अधिकारियों के साथवहीं बैठक कर सीबीआई के खिलाफ ही मोर्चा खोल दिया। उसके बाद सीबीआई के ज्वाइंट अफसर के घर पुलिस भेजी गई।

राजीव कुमार जांच के घेरे में हैं। सीबीआई ने उन्हें तलब किया था, लेकिन वह नहीं पहुंचे थे। इसी सिलसिले में रविवार को सीबीआई टीम वहां पहुंची थी। सीबीआई लंबे समय से शारदा चिटफंड व रोजवैली मामले की जांच कर रही है।

सीबीआई के 40 सदस्यों की टीम रविवार शाम उनके निवास पर पहुंची थी, लेकिन स्थानीय पुलिस ने उन्हें कुमार के बंगले में नहीं घुसने दिया।

कुमार 1989 बैच के आईपीएस अफसर हैं और उन्होंने शारदा घोटाले की जांच करने वाले एसआईटी का नेतृत्व किया था। इस मामले से जुड़ी कुछ अहम फाइलें व दस्तावेज गायब हैं।

सीबीआई इसी सिलसिले में राजीव कुमार से पूछताछ करना चाहती है। सीबीआई को डर है कि घोटाले से जु़ड़े अहम दस्तावेज नष्ट किए जा सकते हैं।

इस बवाल के बाद कोलकाता पुलिस ने साल्ट लेक इलाके में स्थित सीजीओ कॉम्प्लेक्स में स्थित सीबीआई दफ्तर पर कब्जा कर लिया। छापा मारने गए सीबीआई अफसरों को पुलिस ने उनके वाहन से उतारकर अपने वाहन में बैठा लिया और उन्हें विधान नगर थाने ले जाया गया।

सीबीआई के वाहन के ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया गया। इसी दौरान दोनों पक्षों के अफसरों के बीच हाथापाई हुई। विधाननगर पुलिस ने सीबीआई दफ्तर पर कब्जा कर लिया।

राजीव कुमार के घर के बाहर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। राज्य के डीजीपी समेत तमाम आला अधिकारी कुमार के घर पहुंच गए थे। माना जा रहा है कि सीबीआई छापे के माध्यम से डीसीपी कुमार को गिरफ्तार करना चाहती थी।