पाकिस्तान आईएसआई को मिला नया मुखिया, जानने के लिए पढ़ें।

पाकिस्तान आईएसआई को मिला नया मुखिया, जानने के लिए पढ़ें।

10
0
SHARE

पाकिस्तान की इंटेलिजेंस एजेंसी आईएसआई को लेफ्टिनेंट जनरल असीम मुनीर नए मुखिया के तौर पर नियुक्त किए गए हैं। लेफ्टिनेंट जनरल मुनीर ने लेफ्टिनेंट जनरल नावेद मुख्तार की जगह लेंगे जो 1 अक्टूबर को रिटायर हो चुके हैं।

सितंबर माह में पाकिस्तान सेना के प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने मुनीर के अलावा पांच और अन्य पदों के लिए नियुक्तियों को मंजूरी दे दी थी।

मुनीर इससे पहले मिलिट्री इंटेलिजेंस के डायरेक्टर जनरल थे। कहां जा रहा है कि पाकिस्तान के नए चीफ के सलेक्शन में पाकिस्तान पीएम इमरान खान को कोई विकल्प नहीं दिया गया था और सारा निर्णय सेना की ओर से लिया गया है।

हालांकि पाकिस्तान सेना की ओर से इस बात से साफ साफ इनकार कर दिया गया है।

आप की जानकारी हेतु बता दें कि मुनीर को साल 2018 के पाकिस्तान के दूसरे सर्वोच्च पुरस्कार हिलाल ए इम्तियाज़ के विजेता है। यह पुरस्कार सैनी और असैन्य दोनों ही श्रेणियों में दिया जाता है। नए आई एस आई चीफ मुनीर ने फोर्स कमांड के कमांडर के तौर पर नार्दन एरियाज में काफी दिनों तक अपनी सेवाएं दी है।

पाकिस्तान आर्मी प्रमोशन बोर्ड जिसे आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा ऐड कर रहे हैं, उन्होंने 6 नए चैनल के प्रमोशन को भी मंजूरी दी है। आई एस आई के तौर पर मुनीर ऐसे समय में अपना जिम्मा संभाल रहे हैं जब भारत के साथ तनाव काफी बढ़ता जा रहा है।

भारतीय अधिकारियों की ओर से कहा जा रहा है कि नए आई एस आई चीज के बाद भी उन्हें पाकिस्तान की रणनीति में किसी भी तरह के बदलाव की कोई उम्मीद नहीं है। अधिकारियों के मुताबिक मुनीर भारत के खिलाफ उसी एजेंडे को आगे बढ़ाएंगे जिससे मुख्तार छोड़कर जा रहे हैं।

मुनीर के अपॉइंटमेंट की खबर ऐसे समय आई है जब भारत में 2 दिन पहले ही ब्रह्मोस सुपरसोनिक मिसाइल में पाकिस्तानी जासूसों की सेंध लगाने की जानकारियां सामने आए। इमरान से पूछने के लिए बताने के लिए मिले जनरल मुनीर, जनरल बाजवा के बेहद करीब है।

साधारण तौर पर आर्मी चीफ की ओर से तीन नामों को विकल्प के तौर पर पीएम के पास भेजा जाता है। इस बार जनरल बाजवा ने इमरान खान से मुलाकात तो की लेकिन इस बात की जानकारी देने के लिए अगले आईएसआईसी के तौर पर लेफ्टिनेंट जनरल मुनीर नाम चुना गया।

जनरल मुनीर के सामने जो कुछ भी मुद्दे होंगे, उनमें से सबसे पहला मुद्दा कश्मीर का होगा और पिछले कुछ समय से पाकिस्तान का रुख कश्मीर को लेकर काफी आक्रामक भी है।