मौसम विभाग की ओर से बड़ी खबर, टूटा पिछले 8 सालों का...

मौसम विभाग की ओर से बड़ी खबर, टूटा पिछले 8 सालों का रिकॉर्ड।

13
0
SHARE

बताया जा रहा है कि पहाड़ों पर हुई बर्फबारी के चलते दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे उत्तर भारत में मौसम के मिजाज में बदलाव आया है वहीं अब मार्च की शुरुआत भी बारिश से होने की संभावना है।

इस बार सर्दी अपने अंतिम दौर में भी नित नए रंग दिखा रही है। फरवरी खत्म होने को है और आज यानी बृहस्पतिवार को अंतिम दिन है, लेकिन ठिठुरन लगातार बरकरार है। बृहस्पतिवार सुबह लोगों को ठिठुरन महसूस हुई।

बताया जा रहा है कि पहाड़ों पर हुई बर्फबारी के चलते दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे उत्तर भारत में मौसम के मिजाज में बदलाव आया है, वहीं अब मार्च की शुरुआत भी बारिश से होने की संभावना है। बुधवार (27 फरवरी) का दिन आठ साल का सबसे ठंडा दिन दर्ज किया गया।

मौसम विभाग के अनुसार, अगले दो दिनों तक न्यूनतम तापमान में गिरावट बरकरार रहेगी। इसके बाद शनिवार और रविवार को बारिश के बाद फिर मौसम बदल जाएगा।

बुधवार को दिल्ली का अधिकतम तापमान महज 20 डिग्री सेल्सियस रहा। यह सामान्य से 6 डिग्री कम है, जबकि न्यूनतम तापमान सिर्फ 9.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से तीन डिग्री कम है। सुबह के समय तो काफी अधिक सर्दी महसूस हुई। 24 घंटे के दौरान 0.2 मिमी. बारिश हुई है।

हवा में नमी का स्तर 63 से 95 फीसद तक रहा है। पालम में बूंदाबांदी, लोदी रोड में 0.7 मिमी. और जाफरपुर में 1 मिमी. बारिश हुई। फरवरी में सामान्य बारिश 15.9 मिमी. है जबकि इस बार अब तक 23.9 मिमी. बारिश दर्ज हो चुकी है।

इससे अधिक बारिश फरवरी में 2014 के दौरान 48.8 मिमी. हुई थी। बृहस्पतिवार को आसमान साफ रहेगा। न्यूनतम तापमान महज 7 डिग्री, जबकि अधिकतम 21 डिग्री सेल्सियस रहने का अनुमान है।

शुक्रवार को कुछ गर्मी होगी, पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय होगा। दो और तीन मार्च को हल्की से मध्यम स्तर की बारिश होगी। ओले गिरने की भी संभावना है।

4 मार्च को भी हल्की बारिश होगी। तापमान भी महज 21 से 22 डिग्री के बीच रहेगा, जबकि न्यूनतम तापमान भी 10 से 11 डिग्री तक रहने का अनुमान है।

बरसात होने और हवा की रफ्तार बढ़ने से दिल्ली की हवा भी लगातार साफ-सुथरी बनी हुई है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के एयर बुलेटिन के मुताबिक बुधवार को दिल्ली का एयर इंडेक्स महज 100 रहा, जो सामान्य श्रेणी में आता है। एनसीआर के कई शहरों में तो यह एयर इंडेक्स भी अच्छा रहा।

इनमें फरीदाबाद का एयर इंडेक्स 100, गाजियाबाद का 75, ग्रेटर नोएडा का 79, गुरुग्राम का 72 और नोएडा का 82 रहा। हवा में घुले-मिले प्रदूषक कणों के स्तर में भी खासी कमी दर्ज की गई।