राफेल डील को लेकर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने उजागर की कई...

राफेल डील को लेकर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने उजागर की कई प्रमुख बातें।

23
0
SHARE

राफेल डील को लेकर बीते कई महीनों से जारी हंगामे के बीच बुधवार को लोकसभा में जमकर बहस हुई। इस दौरान कांग्रेस अध्यक्ष ने एक ऑडियो क्लिप जारी कर सदन में इसे सदन में चलाने की मांग की।

वहीं वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए उनपर झूठ बोलने का आरोप लगाया। सदन में जेटली ने कई बातें कहीं। 15 बड़ी बातों का यहां जिक्र किया गया है।

फेल डील मुद्दे पर बुधवार को लोकसभा में काफी हंगामा हुआ। कांग्रेस ने जहां इस मुद्दे पर एक ऑडियो क्लिप जारी किया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल किया, वहीं नरेंद्र मोदी सरकार के तरफ से मोर्चा संभालते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर करारा हमला किया।

उन्होंने कहा कि राहुल गांधी इस मुद्दे पर बीते 6 महीने से लगातार झूठ बोल रहे हैं। इस बीच हंगामे और नारेबाजी के बीच विपक्षी सांसदों ने कागज के जहाज बनाकर उड़ाए।

सदन में सत्ता और विपक्षी नेताओं के बीच नोकझोंक तक की स्थिति बन गई, जिसके बाद लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन को हस्तक्षेप करना पड़ा और सदन की कार्रवाई स्थगित हो गई।

दरअसल, राहुल ने अपनी बहस के दौरान एक ऑडियो टेप चलाने की मांग की, जिसे लोकसभा अध्यक्ष ने इजाजत देने से इनकार कर दिया।

सदन में राफेल डील पर कांग्रेस के आरोपों का जवाब देते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 15 प्रमुख बातों का जिक्र कियाः-

राफेल पर जवाब देते हुए अरुण जेटली ने बोफोर्स, अगस्टा वेस्टलैंड और नैशनल हेरल्ड मामले का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि इस परिवार को देश की सुरक्षा के बारे में कोई भी चिंता नहीं है।

अगर किसी एक केस में ऐसा होता है तो हम इस परिवार को बेनिफिट ऑफ डाउट देते, लेकिन जब इतने मामलों में इनकी संलिप्तता सामने आ रही है कि कहने के लिए कुछ नहीं बचा।

जेटली ने राफेल मुद्दे पर कांग्रेस द्वारा जारी टेप पर कहा कि कांग्रेस जानती है कि यह टेप झूठा है, इसलिए वह इसकी जिम्मेदारी नहीं लेना चाहती।

अगर उन्हें लगता है कि यह टेप सही है तो उन्हें पहले इसकी जिम्मेदारी लेनी चाहिए। वह ऑडियो टेप फर्जी है, तभी तो राहुल गांधी उसकी सत्यता की जिम्मेदारी लेने से घबरा रहे हैं।

जेटली ने कांग्रेस के ऑडियो टेप को लेकर कहा कि गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर और मंत्री पहले ही कह चुके हैं कि वह टेप फर्जी है। मालूम हो कि गोवा के मंत्री विश्वजीत पी।

राणे ने गोवा के सीएम को लेटर लिखकर कहा है कि राफेल पर कांग्रेस ने जो ऑडियो टेप जारी किया है, वह फर्जी है।

कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा ऑडियो टेप चलाने की मांग पर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा- कांग्रेस एक फर्जी टेप को सदन में चलाना चाहती है, जिसकी इजाजत नहीं दी सकती है। मैं पूछना चाहता हूं कि क्या उन्होंने इस टेप की सत्यता जांच ली है?

अरुण जेटली ने कहा कि राफेल डील मामले पर केंद्र सरकार के जवाब से सुप्रीम कोर्ट तो संतुष्ट हो गया, लेकिन कांग्रेस पार्टी संतुष्ट नहीं हुई, क्योंकि वह इसे राजनीतिक नजरिए से देख रही हैं और कांग्रेस नेता इसका राजनीतिकरण कर रहे हैं।

वित्त मंत्री ने कहा कि राफेल फाइटर जेट का दाम यूपीए के समय से 9 फीसदी सस्ता है। वहीं, पूरी तरह हथियारों से लैस राफेल का दाम भी यूपीएम के समय से 20 फीसदी सस्ता है।

जेटली ने कहा कि राफेल जेट फाइटर डील देश की सुरक्षा का मामला है और कांग्रेस को इसको गंभीरता से लेना चाहिए।

वित्त मंत्री ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से अनुरोध किया कि वह अपने पद और अपने दल की गरिमा का पूरा खयाल रखें और फिर राफेल डील पर अपनी बात कहें।

राफेल डील को लेकर बीते कई महीनों से मोदी सरकार पर हमलावर कांग्रेस पर पलटवार करते हुए वित्त मंत्री जेटली ने कहा कि राफेल डील पर यूपीए काल में 2014 तक कुछ नहीं किया गया। सरकार बदलने के बाद इस पर काम शुरू हुआ।

अरुण जेटली ने कहा कि राफेल विमान में सेना को किन चीजों की जरूरत होगी, इसको तय करने के लिए तकरीबन 74 बैठकें हुईं। उसके बाद डील को फाइनल किया गया।

अरुण जेटली ने कहा कि साल 2001 से वायुसेना राफेल फाइटर जेट की मांग कर रही थी। सेना के लिए सिर्फ हवाई जहाज काफी नहीं होता, यह तो सिर्फ उड़ने का माध्यम है। हवाई जहाज पर लगे अन्य हथियार ही लड़ाई में सेना के काम आते हैं।

मुझे समझ नहीं आता कि सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद मामले पर संयुक्त संसदीय समिति (JPC) की क्या जरूरत रह जाती है?
अरुण जेटली ने कहा कि अगर हम राफेल का दाम सार्वजनिक करेंगे, तो समझौते का उल्लंघन होता।

जेटली ने कहा कि यूपीए को बताना चाहिए कि उन्होंने हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL)वाला कॉन्ट्रैक्ट क्यों रद्द किया? राहुल गांधी का ज्ञान ABC से शुरू करना होगा।

राहुल गांधी को यह भी नहीं पता कि ऑफसेट क्या होता है? एक ऐसा दल जिसने देश पर 60 साल शासन किया, उसके नेता को यह नहीं पता है कि ऑफसेट क्या है और उसके बाद उन्हें राफेल पर सवाल उठाना है।