अगर आप भी है कसरत के शौकीन, तो यह खबर आपके लिए...

अगर आप भी है कसरत के शौकीन, तो यह खबर आपके लिए है

118
0
SHARE

जरूरत से ज्यादा एक्सरसाइज से प्रभावित होता है आपका स्वास्थ्य।
एक दिन में 90 मिनट से ज्यादा एक्सरसाइज हो सकती है खतरनाक।

ज्यादा एक्सरसाइज से कमजोर होता है दिल और दिमाग।

शरीर की आकर्षक फिटनेस और स्वास्थ्य के लिए एक्सरसाइज बहुत जरूरी है। लेकिन कुछ लोगों को फिटनेस और लुक्स को लेकर इतने चिंतित होते हैं, कि वो जरूरत से ज्यादा एक्सरसाइज करने लगते हैं। शरीर की क्षमता से ज्यादा एक्सरसाइज करने से न सिर्फ शरीर बल्कि दिमाग भी प्रभावित होता है। अमेरिका में हाल में हुए एक शोध में पाया गया है कि 90 मिनट से ज्यादा लगातार एक्सरसाइज करना कई बार खतरनाक हो सकता है।

सप्ताह में कितनी करनी चाहिए एक्सरसाइज

आमतौर पर सप्ताह में कितने दिन और कितने समय आपको एक्सरसाइज करना चाहिए, ये आपकी शारीरिक क्षमता पर निर्भर करता है। लेकिन औसत वजन वाले लोगों को सप्ताह में 4-5 दिन वर्कआउट करना चाहिए। इससे एक्सरसाइज के दौरान आपके मसल्स पर जो प्रेशर पड़ता है वो 2-3 दिन में रिलीज हो जाता है और मसल्स को आराम मिलता है। अगर आप बहुत ज्यादा मोटापे से ग्रस्त हैं, तो अपने शरीर की क्षमता के अनुसार ही एक्सरसाइज करें।

जिस दिन आप एक्सरसाइज नहीं करते हैं उस दिन जॉगिंग या वॉकिंग कर सकते हैं। इसके अलावा योगासन और प्रणायाम भी बेहतर विकल्प है।

लगातार 90 मिनट से ज्यादा न करें एक्सरसाइज

आपके शरीर में ताकत है तो निश्चित ही आप लंबे समय तक एक्सरसाइज कर सकते हैं मगर शरीर के विज्ञान के मुताबिक आपको लगातार 90 मिनट से ज्यादा एक्सरसाइज नहीं करना चाहिए। अगर आप ज्यादा वर्कआउट करने के इच्छुक हैं तो 90 मिनट के बाद 15-20 मिनट का ब्रेक लें और फिर एक्सरसाइज करें। ध्यान दें कि वर्कआउट के बीच-बीच में पानी जरूर पीते रहें।

आपकी मेंटल हेल्थ पर भी पड़ता है प्रभाव

जिम में ज्यादा पसीना बहाने से आपकी बॉडी पर असर हो ना हो लेकिन आपका मानसिक स्वास्थ्य जरूर बिगड़ सकता है। शोध के मुताबिक ज्यादा देर तक व्यायाम करने से मानसिक स्वास्थ्य बिगड़ सकता है जिससे सोचने, समझने और राय बनाने की क्षमता घट जाती है।

रिपोर्ट कहती है कि यह खासकर महिलाओं के लिए अधिक घातक है। ऐसी महिलाएं जो जल्दी स्लिम दिखने के लिए अधिक देर तक जिम में समय बिताती हैं उनका मानसिक संतुलन किसी भी उम्र में डगमगा सकता है और उनकी सोचने और समझने की शक्ति क्षीण हो सकती है।

एरीथमिया का हो सकते हैं शिकार

अच्छे प्रशिक्षक की देख-रेख में रनिंग या अन्य ट्रेनिंग का प्रशिक्षण नहीं लेने वाले लोगों में एरीथमिया सहित अन्य हृदय रोगों का जोखिम बढ़ सकता है। शोधकर्ताओं का मानना है कि एथलीटों को रोजाना एक घंटे की ही इंटेंस ट्रेनिंग करनी चाहिये। लेकिन अगर वे लाइट एक्सरसाइज कर रहे हैं तो इस सत्र को थोड़ा लंबा भी किया जा सकता है।

इसके अलावा उन्हें नियमित रूप से अपने हृदय की जांच भी कराते रहना चाहिये। बहुत ज्यादा एक्सरसाइज हमारे हृदय स्वास्थ्य के लिये अच्छी नहीं है। रोजाना 30 से 60 मिनट की एक्सरसाइज कर आप सबसे ज्यादा फायदे पा सकते हैं।