भाजपा की प्रचंड जीत के बाद मनोज तिवारी ने मुख्यमंत्री केजरीवाल को...

भाजपा की प्रचंड जीत के बाद मनोज तिवारी ने मुख्यमंत्री केजरीवाल को दी चुनौती।

34
0
SHARE

Results 2019: दिल्ली में क्लीन स्वीप के बाद बोले मनोज तिवारी- हमारा अगला टारगेट ‘अरविंद केजरीवाल को…’

लोकसभा चुनावों के परिणामों से उत्साहित मनोज तिवारी ने कहा कि उनका अगला टारगेट दिल्ली में 60 सीट जीतने का है।

उत्तर पूर्व दिल्ली सीट पर मनोज तिवारी ने कांग्रेस की शीला दीक्षित को करीब तीन लाख 66 हजार वोटों के अंतर से हराया।

भारतीय जनता पार्टी (BJP) प्रचंड बहुमत के साथ दोबारा केंद्र की सत्ता पर काबिज हो गई है। इन चुनावों में BJP ने लोकसभा की 542 में से अपने दम पर 303 सीटों पर जीत दर्ज करते हुए आठ राज्यों में क्लीन स्वीप किया है। इन राज्यों में दिल्ली भी शामिल है, जहां पार्टी ने सातों सीटों पर कब्जा किया है। पार्टी की इस जीत से उत्साहित दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा है कि अब उनका अगला टारगेट अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) सरकार को सत्ता से हटाना है।

लोकसभा चुनावों के परिणामों से उत्साहित मनोज तिवारी ने कहा कि उनका अगला टारगेट दिल्ली में 60 सीट जीतने का है। NDTV से बात करते हुए उन्होंने कहा, ‘अब हमारा अगला टारगेट है केजरीवाल सरकार को सत्ता से हटाना। हमारा मानना है कि लोकसभा चुनाव के नतीजों के अनुसार हम 50-52 सीट दिल्ली में जीत रहे हैं। हम दिल्ली की जनता से कहेंगे कि हमें 60 सीट चाहिए। हमारा अगला टारगेट दिल्ली में 60 सीटे जीतने का है।

मनोज तिवारी के दावे को लोकसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी को राज्य में मिले मतों के आंकड़े भी सही साबित करते नजर आ रहे हैं। गुरुवार को आए नतीजों में भाजपा को दिल्ली की सभी सातों सीटों पर 50 प्रतिशत से अधिक मत प्राप्त हुए हैं। पश्चिम दिल्ली सीट से भाजपा के उम्मीदवार प्रवेश वर्मा ने रिकार्ड 5.78 लाख वोटों के अंतर से जीत दर्ज की। इस तरह उन्होंने दिल्ली में सबसे बड़ी जीत का अपना ही रिकार्ड तोड़ दिया। हालांकि इन चुनावों में आम आदमी पार्टी (AAP) को तीसरे स्थान पर धकेलते हुए कांग्रेस ने पिछले पांच साल में पहली बार अच्छा प्रदर्शन किया है।

त्रिकोणीय मुकाबले में राष्ट्रीय राजधानी में भाजपा का प्रदर्शन आम आदमी पार्टी और कांग्रेस से बहुत बेहतर रहा। दिल्ली में कांग्रेस (22.5 प्रतिशत) और आप (18.1 प्रतिशत) के सम्मिलित वोट की तुलना में भाजपा ने 56 प्रतिशत से ज्यादा मत हासिल किए। भाजपा ने 2014 में 46.4 प्रतिशत वोट मिले थें। सुबह सात बजे मतगणना शुरू होते ही भाजपा ने सभी सातों सीटों पर बढ़त बना ली थी। भाजपा के कई उम्मीदवार प्रतिद्वंद्वियों से काफी अंतर से आगे चल रहे थे। अपने उम्मीदवारों की जीत को निश्चित देखते हुए भाजपा समर्थकों ने दोपहर से ही जश्न मनाना शुरू कर दिया था।

पश्चिमी दिल्ली सीट पर वर्तमान सांसद प्रवेश वर्मा ने कुल आठ लाख 65 हजार 648 मत मिले। उन्होंने कांग्रेस के महाबल मिश्रा को विशाल अंतर से हराया। उन्होंने 2014 में आप के जरनैल सिंह को दो लाख 68 हजार 586 वोटों से हराया था। उत्तर पूर्व दिल्ली सीट पर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने अपनी निकटतम प्रत्याशी कांग्रेस की शीला दीक्षित को करीब तीन लाख 66 हजार वोटों के अंतर से परास्त किया। पूर्वी दिल्ली सीट पर भाजपा के गौतम गंभीर ने कांग्रेस के निकटतम प्रतिद्वंद्वी अरविंदर सिंह लवली को करीब तीन लाख 91 हजार वोटों के अंतर से मात दी।

उत्तर पश्चिम दिल्ली सीट पर भाजपा के उम्मीदवार हंस राज हंस ने आप के गुग्गन सिंह को साढे पांच लाख से भी अधिक अंतर से हराया। चांदनी चौक और नई दिल्ली सीटों पर भी भाजपा ने शानदार प्रदर्शन किया और उसके उम्मीदवार हर्षवर्धन ने 2,28 हजार,145 वोटों के अंतर से कांग्रेस के जेपी अग्रवाल और मीनाक्षी लेखी ने कांग्रेस के अजय माकन को 2,56,504 मतों के अंतर से हराया।

दक्षिणी दिल्ली सीट पर भाजपा के वर्तमान सांसद रमेश बिधूड़ी ने आप के राघव चड्ढा को करीब तीन लाख 67 हजार वोटों के अंतर से मात दी। कांग्रेस के उम्मीदवार विजेंदर सिंह तीसरे स्थान पर रहे और उनकी जमानत जब्त हो गई। आप के तीन उम्मीदवार चांदनी चौक से पंकज कुमार गुप्ता, नयी दिल्ली से बृजेश गुप्ता और उत्तरपूर्व दिल्ली से दिलीप पांडेय अपनी जमानत तक नहीं बचा पाए।