SBI कार्ड धारकों के लिए एक महत्वपूर्ण खबर।

SBI कार्ड धारकों के लिए एक महत्वपूर्ण खबर।

55
0
SHARE

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ग्राहकों का डेबिट कार्ड फ्री में अपग्रेड कर रहा है। बैंक मौजूदा डेबिट कार्ड को ईएमवी चिप और पिन डेबिट कार्ड में अपग्रेड कर रहा है। एसबीआई ने ऐसा सुरक्षा सुनिश्चित करने के चलते किया है।

बैंक के मुताबिक ग्राहकों को इस साल के अंत तक यानी 31 दिसंबर, 2018 से पहले अपना कार्ड ईएमवी चिप कार्ड से बदलना होगा। यह जानकारी एसबीआई ने ट्विटर पर दी है।

बैंक की ओर से यह कदम रिजर्व बैंक के उस निर्देश के बाद आया है जहां कॉमर्शियल बैंकों को 31 दिसंबर तक मैग्नेटिकस्ट्रिप आधारित कार्ड्स को ईएमवी चिप एंड पिन कार्ड में बदलने के लिए कहा गया है। बैंक ने बताया है कि ग्राहक एसबीआई के ईएमवी डेबिट कार्ड के लिए ऑनलाइन या फिर बैंक शाखा पर आवेदन कर सकते हैं।

एसबीआई के ग्राहक ईएमवी चिप एंड पिन डेबिट कार्ड के लिए ऑनलाइन व ऑफलाइन दोनों तरह से आवेदन कर सकते हैं। ऑनलाइन मोड में ग्राहक को एसबीआई के इंटरनेट बैंकिंग पोर्टल onlinesbi.com पर जाना होगा।

इस वेबासाइट पर लॉग-इन कर ई-सर्विसेज टैब में से एटीएम कार्ड सर्विस पर क्लिक करना होगा। इसके बाद वे दिशा-निर्देश अनुसार प्रक्रिया पूरी करें। वहीं, ऑफलाइन में एसबीआई की होम ब्रांच जाना होगा। होम ब्रांच वह शाखा होती है जहां पर आपका बैंक खाता होता है।

एसबीआई के मुताबिक मौजूदा मैगस्ट्रिप या मैग्नेटिकस्ट्रिप डेबिट कार्ड को फ्री में ईएमवी चिप एंड पिन कार्ड में बदल दिया जाएगा। सुरक्षा के मद्देनजर बैंक एक बार ब्लॉक किये जा चुके किसी भी मैगस्ट्रिप डेबिट कार्ड अनलॉक नहीं करेगा।

ईएमवी कार्ड नये वैश्विक मानकों पर आधारित तकनीक है। इसमें डेबिट कार्ड के आगे की तरफ एक चिप का इस्तेमाल किया हुआ है। इस तकनीक के लिए डेबिट कार्ड में माइक्रोप्रोसेसर चिप लगाया गया है। यह यूजर्स के डाटा को सुरक्षित रखता है। यह तकनीक मैगस्ट्रिप की तुलना में ज्यादा सुरक्षित है।

आपका कार्ड मैगस्ट्रिप डेबिट कार्ड है, अगर उसमें आगे की तरफ कोई चिप नहीं लगी हुई। वहीं आपका कार्ड ईएमवी चिप डेबिट कार्ड है अगर कार्ड के सामने की ओर चिप का इस्तेमाल किया गया है।

वहीं बता दें कि अगर ग्राहक 31 दिसंबर तक इस कार्ड को नहीं बदलवाते तो वह अपने डेबिट कार्ड का इस्तेमाल कहीं नहीं कर पाएंगे। गौरतलब है कि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की ओर से दिये गये ये निर्देश रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) की गाइडलाइंस के अनुरूप है।